Adipurush controversy: सैफ अली खान के खिलाफ शिकायत दर्ज, धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप – Adipurush controversy saif ali khan 5 people complaint register on religious sentiments hurt Prabhas om raut Jaunpur tmovk

फिल्म ‘आदिपुरुष’ को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. खबर आ रही है कि जौनपुर में न्यायिक आशुतोष सिंह ने अधिवक्ता हिमांशु श्रीवास्तव की शिकायत पर फिल्म ‘आदिपुरुष’ के निर्माता ओम राउत, प्रभास, सैफ अली समेत पांच लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज की है. ने शिकायत के बयान के लिए 27 अक्टूबर तारीख है. जा रहा है कि के ट्रेलर भगवान राम, , और रावण का अशोभनीय चित्रण किया गया है. को पहुंचाई है.

‘आदिपुरुष’ को इसके वीएफएक्स और किरदारों के लुक को लेकर ट्रोल किया जा रहा है. सोशल मीडिया पर यूजर्स ‘रावण’ के लुक का खासकर मजाक उड़ा रहे हैं. लोगों का कहना यह भी है कि फिल्म में जिस तरह वीएफएक्स दिखाया जाने वाला है, खराब नजर आएगा. , फिल्म के निर्देशक ओम राउत ने सफाई पेश करते हुए कहा कि फिल्म बड़े पर्दे पर जबतक देखेंगे, आपकी सोच नहीं बदलेगी. ‘आदिपुरुष’ का जो टीजर 2 अक्टबूर को रिलीज था, भगवान राम , के में अली खान सीता भूमिका में कृति की झलक गई है.

‘आदिपुरुष’ फिल्म के खिलाफ हिंदू सेना की याचिका
‘आदिपुरुष’ फिल्म के खिलाफ हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता दिल्ली हाईकोर्ट बरुण कुमार सिन्हा के माध्यम जनहित याचिका दायर की. सेना की है कि फिल्म में भी विवादित सीन है फिल्म दिया जाए कि वह फिल्म को सर्टिफिकेट करे.

ने रिएक्ट
‘आदिपुरुष’ के टीजर पर रामानंद सागर के किरदारों ने भी आपत्ति जताई है. ‘रामायण’ फेम अरुण गोविल ने अपने यूट्यूब चैनल एक वीडियो करते हुए कहा, ‘बहुत वक्त से बातें आपसे करने का समय आ गया है. और महाभारत जैसे जितने ग्रंथ और शास्त्र हैं, सांस्कृतिक और धार्मिक धरोहर है. संस्कृति है, . सभ्यता के लिये एक नींव सामान है. ही नींव को हिलाया जा सकता है और ना ही जड़ बदला जा सकता है. जड़ के साथ किसी का खिलवाड़ या छेड़छाड़ ठीक नहीं है. से संस्कार मिलते हैं, आधार मिलता है. ही हमें जीने की कला सिखाती है. संस्कृति विश्व की सबसे प्राचीन संस्कृति है.’

गोविल आगे बात करते कहते हैं कि ‘जब ढाई साल पहले कोरोना आया, उसने हमारी धार्मिक मान्यताओं को मजबूत किया. के दौरान जब रामायण का प्रसारण हुआ, विश्व रिकॉर्ड बनाया. मान्यताओं और परंपरा का बहुत बड़ा संकेत है. 35 साल पहले बनी रामायण को हमारी युवा पीढ़ी ने पूरी श्रद्धा और आस्था से देखा.’

अरुण गोविल ने फिल्म मेकर्स और राइटर्स पर बात करते हुए कि ‘आपको हमारी नीव, जड़ और धार्मिक संस्कृति से छेड़छाड़ करने का हक नहीं है.’ इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि ‘क्रिएटिविटी के नाम पर धर्म का मजाक ना बनायें.’ के अंत में अरुण गोविल ने प्रधानमंत्री मोदी को, और ऐतिहासिक पहचान दिलाने के लिये शुक्रिया भी अदा किया.

‘रामायण’ के लक्ष्मण ने किया ‘आदिपुरुष’ के टीजर पर रिएक्ट
के एतिहासिक किरदार ‘रामायण’ के लक्ष्मण उर्फ ​​​​ के टीजर रिएक्ट किया है. उनका कहना है कि बीते दिनों के सिलसिले में मैं, और अरुण गोविल जी एक इवेंट में मिले थे. ही मीडिया से लगातार कॉल्स आ रहे थे. सवाल कर रहे हैं आदिपुरुष हमें कैसी लगी, वक्त तो टीजर नहीं देखा था. चुका हूं, जवाब हूं. यही कहूंगा कि टीजर के आधार पर किसी भी तरह का जजमेंट बनाना, सही नहीं होगा. उस टीजर को देखकर मैंने यही महसूस किया है कि हर मेकर्स की अपनी होती है, अपना नजरिया होता है. क्योंकि हमारे पास की कोई तस्वीर तो है नहीं, अगर राम कोई तस्वीर का पास होता, शायद उसके आधार कुछ कहा जा सकता था. राम के लुक पर कॉपीराइट तो नहीं है, एक्स्पेरिमेंट किया जा सकता है. जेहन में जिस तरह कहानी होती है, वह उसी के अनुरूप किरदार को ढालता है. राम को लेकर लोगों की अपनी धारणाएं रही हैं.

‘आस्था व विश्वास के साथ खिलवाड़ न करें’
ने आगे कहा कि जाहिर सी बात है मेकर्स दूसरे को नहीं करना चाहते हैं. अगर आदिपुरुष वालों को कॉपी ही करनी होगी तो दर्शक फिर उसमें नया क्या , क्योंकि रामायण के रूप में उनके पास पहले से एक ओरिजनल गाथा है. कहना चाहूंगा कि मेकर्स को यह ध्यान रखने की जरूरत है कि वह किसी की भी व विश्वास के खिलवाड़ न करें. भी हमारे आइकॉनिक किरदारों साथ खिलवाड़ करता है, जस्टिफाई तो नहीं होगा न. हमारे लिए इमोशन हैं, इसे देखकर कई लोग बहुत कुछ सीखते हैं. के इमोशन का मजाक नहीं बनना चाहिए.

कहा कि मैंने टीजर देखकर यही पाया है कि कुछ बनाने की कर रहे हैं. उनके किरदार ने अभी तक ऐसा कुछ कहा या किया नहीं कि उसमें आपत्त‍ि हो. यही है कि उनका प्रोजेक्शन सही हो. तरह का एक्स्पेरिमेंट करने में कोई बुराई नहीं है लेकिन किरदार लेकर धारणा बनी , साथ कोई मजाक नहीं हो. तो कोई कॉन्ट्रोवर्सी दिख नहीं रही है, ऑब्जेक्शन उठाया जाए. बिना वजह पब्लिसिटी दी जा रही है.

ने किया ‘आदिपुरुष’ के टीजर का रिव्यू
दीपिका चिखलिया ने कहा, “मैंने आदिपुरुष का बिल्कुल टीजर देखा है. और मुझे लगता है कि रामायण की कहानी सच्चाई की कहानी है और सात्विक्ता की कहानी है. मुझे रामायण को VFX से जोड़ना सही नहीं लगा. यह मेरा पर्सनल टेक है. लोग कर रहे हैं कि तरह फिल्म में हनुमान जी ने लेदर पहना है और में मुझे इतना साफ कुछ नजर ऐसा है तो मुझे जी और सच्चाई है उससे उससे होनी . है उसको हमें मेनटन करना चाहिए, क्योंकि यह हमारे देश की धरोहर है.”

ने रिव्यू
‘महाभारत’ फेम नीतीश भारद्वाज ने भी ‘आदिपुरुष’ के टीजर का रिव्यू किया है. कृष्णा की भूमिका इस ऐतिहासिक सीरियल में निभाई थी. में नीतीश भारद्वाज ने कहा, “आदिपुरुष फिल्म का मैंने टीजर देखा. यह देखकर अच्छा लगा कि किस तरह फिल्ममेकर्स मॉडर्न तकनीक को यूज करते हुए फिल्म को एक अलग और अच्छा विजन दे रहे हैं. हमारे साधूओं ने ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ को लिखा है, यह देखकर मुझे बहुत अच्छा महसूस होता है मुझे पसंद आया है करता हूं कि यह लगेगी राउत को हूं फिल्म को देखने के लिए उत्साहित हूं.”

राज सिंह सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *