Ambrane Wise Eon Pro launch in India, know price and features | अंब्रेन ने भारत में लॉन्च की सस्ती कॉलिंग स्मार्टवॉच, जानें कीमत और फीचर्स

ने भारत में लॉन्च की सस्ती कॉलिंग स्मार्टवॉच, जानें कीमत और फीचर्स

, अंब्रेन ने भारत में अपनी नई स्मार्टवॉच Ambrane Wise Eon Pro को लॉन्च कर दिया है। यह कि इस वॉच को कम कीमत में कॉलिंग फीचर के साथ पेश किया गया है। वॉच के साथ 100+ वॉच फेसेस और 100+ स्पोर्ट्स मोड का सपोर्ट भी मिलता है। स्मार्टवॉच को चार कलर ऑप्शन रेड, ब्लू, ग्रीन और ब्लैक में लॉन्च किया गया है।

बात करें कीमत की तो Ambrane Wise Eon Pro वॉच की कीमत 5,999 रपए रखी गई है, हालांकि लॉन्च ऑफर के तहत वॉच को 1,799 रुपए की कीमत पर खरीदा जा सकता है। इसे कंपनी की वेबसाइट और प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराया गया है।

Ambrane Wise Eon Pro
स्मार्टवॉच में 1.85 इंच की बड़ी LucidDisplayTM डिस्प्ले मिलती है, 240×280 रिजॉल्यूशन देती है। के साथ 550 निट्स की ब्राइटनेस मिलती है। वॉच में स्क्रैच-रेजिस्टेंट 2.5D ग्लास भी मिलता है। वॉच में ब्लूटूथ कॉलिंग के साथ इंटरैक्टिव डायल, लाइव वॉच फेसेस, कस्टमाइजेबल विजेट और पर्सनलाइजेशन का सपोर्ट मिलता है।

इस स्मार्टवॉच में ब्लड ऑक्सीजन (SpO2), स्लीप, हार्ट रेट और फीमेल हेल्थ ट्रैकिंग जैसे सेंसर मिलते हैं। वॉच में 100 से ज्यादा वॉच फेसेस और रनिंग, वॉकिंग जैसे 100 से अधिक स्पोर्ट्स मोड का सपोर्ट मिलता है।

वॉच में पावर बैकअप के लिए 280mAh की बैटरी मिलती है, जिसको लेकर कंपनी का दावा है कि वॉच को एक बार फुल चार्ज करने पर 10 दिन की बैटरी लाइफ और 25 दिनों तक स्टैंडबाय टाइम मिलता है। वॉच में वॉटर रेसिस्टेंट के लिए IP68 रेटिंग दिया गया है।

Next story

‘द कश्मीर फाईल्स’ एवं ‘ताशकंद’ के फिल्म निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री की पुस्तक ‘लाल बहादुर शास्त्री मृत्यु या हत्या’ का भव्य विमोचन 14 अक्टूबर को रवीन्द्र भवन में

, दुनिया के सबसे बड़े ‘विश्व रंग’ टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव का भव्य आयोजन इस बार भारत सहित विश्व के 50 देशों में एक साथ होगा। भारत में 14 नवंबर से 20 नवंबर 2022 तक कुशाभाऊ ठाकरे सभागार (मिंटो हॉल), रवीन्द्र भवन, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय में भारतीय संस्कृति, साहित्य एवं कला पर केन्द्रित विभिन्न रचनात्मक सत्रों एवं गतिविधियों का आयोजन होगा।
विश्व रंग के अंतर्गत , भोपाल द्वारा ‘द कश्मीर फाईल्स’ और ‘ताशकंद’ जैसी विचारोत्तेजक फिल्मों के अग्निहोत्री द्वारा लिखित पुस्तक ‘हू किल्ड शास्त्री’ के हिंदी अनुवाद ‘लाल बहादुर शास्त्री मृत्यु या हत्या?’ का ‘लोकार्पण एवं पुस्तक चर्चा 14 अक्टूबर 2022 (शुक्रवार), दोपहर 3:30 से शाम 6:00 बजे तक रवीन्द्र भवन के नये ‘हंस ध्वनि सभागार’ में भव्य समारोह पूर्वक होगा।

लोकार्पण समारोह माननीय श्री विश्वास सारंग, मंत्री, चिकित्सा शिक्षा विभाग, मध्यप्रदेश शासन के मुख्य आतिथ्य, सुप्रसिद्ध फिल्म निर्देशक श्री विवेक रंजन अग्निहोत्री के विशिष्ट आतिथ्य एवं श्री संतोष चौबे, वरिष्ठ कवि–कथाकार, निदेशक विश्व रंग एवं कुलाधिपति, रबीन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय, में होगा।
उल्लेखनीय है कि विवेक रंजन अग्निहोत्री की पुस्तक ‘हू किल्ड शास्त्री’ का हिंदी अनुवाद भोपाल के युवा अनुवादक श्री विश्वास तिवारी ने किया है।

संयोजन प्रो. सक्सेना द्वारा एवं मंच संचालन वरिष्ठ कला समीक्षक एवं टैगोर विश्व कला एवं संस्कृति केन्द्र के निदेशक श्री विनय उपाध्याय द्वारा किया जाएगा।

अवसर पर दर्शकों विशेषकर विद्यार्थियों के लिए प्रश्नोत्तरी का आयोजन भी किया जाएगा। सही उत्तर देने वालों को श्री विवेक रंजन अग्निहोत्री के हस्ताक्षर वाली पुस्तक भेंट की जाएगी। विश्वविद्यालय डॉ. ने बताया है कि इस समारोह मे सभी सादर आमंत्रित हैं। सभी का प्रवेश निःशुल्क हैं।

Next story

डीलिट् मध्य प्रदेश के विद्वान डॉ. कुमार राय द्वारा लिखित,युद्ध में शांति का प्रचार करती पुस्तक

, . सुरेंद्र कुमार राय मध्य प्रदेश के उन गिने चुने विद्वानों में से हैं जिन्होने रजनीति शास्त्र में एक अलग पहचान बनायी है और – डॉक्टर ऑफ़ लिटरेचर की डिग्री प्राप्त की है । , पीएचडी उपाधि अर्जित कर लेने के बाद की उपाधि है । राय के पचास से भी अधिक शोध पत्र देश के उच्च स्तरीय पत्र पत्रिकाओ में प्रकाशित हुए हैं जैसे की धर्मयुग। से उनके चिंतन, परिचर्चा एवं वार्ताए भी प्रसारित हुई हैं। उनकी लिखी हुई किताब “गुट निर्पेक्ष आंदोलन एवं निःशस्त्रीकरण” जो इस समय अमेज़ॉन पे उपलभ्द है, एक अप्रतिम शोधपूर्ण एवं रुचिकर दस्तावेज़ है। किताब विश्व युद्ध में परमाणु प्रयोग की दास्तान बताती है और शांति स्थित करने के लिए तरीके भी बताये गए हैं। के परिप्रेक्ष्य में जब यूक्रेन और रूस में युद्ध चल रहा है, कोरिया भी परीक्षण कर है, में बढ़ती शक्तियो का माहौल है | तत्समयिक समस्याओं का समाधान के मध्यम की खोजा था, ये किताब फिर से दोहराती है | “मैंने अपने करियर में काई शोध पत्र और अपनी डी. लिट थीसिस और पुस्तक के ज़रीये विश्व में स्थापना करने के तारीके बताए हैं | मेरा पूरा जीवन काल जबलपुर, कटनी, भोपाल में शोध में, छात्रों को रजनीति शास्त्र की बारीकियां बताने में और बतौर गाइड उन्हें पीएचडी की डिग्री प्रदान कराने में समर्पित रहा है | मुझे फक्र है की मेरे छात्र और विदेश कोने में कहीं न कहीं ज्ञान का प्रयोग कर रहे हैं।” बताते हैं |

राय ने प्रोफेसर पद पर कार्य किया है और आज पर अपने अन्य के बात हैं | धर्मपत्नि अनीता राय भी आकाशवाणी से जुडी रही हैं, वह अस्सी के दशक में कॉलम भी लिखती थी | “मेरे पिता ने हमें बचपन से ही राजनीति शास्त्र से जोड़े रखा। टीनएज में जब मेरी उमर के बच्चे फैशन पत्रिका पढ़ते थे, वही मैं और मेरा भाई ‘फ्रीडम एट मिडनाइट’, ‘1857 की क्रांति’ पढ़ा करते थे। इस सबका हमारे जीवन पर एक अभूतपूर्व प्रभाव पड़ा है।” डॉ. राय की पुत्री और डायवर्स सिनेमा की संस्थापक सीईओ स्वेता राय बताती हैं। डॉ. राय के जन्म दिवस 12 अक्टूबर पर उनकी पुत्री स्वेता राय जो की एक हॉलीवुड फिल्म निर्माता भी हैं, आई हुई हैं, उनके पुत्र युगश्रेष्ठ और सोनल जो वरिष्ठ वह भी पिता पर हैं |

की www.drskrai.in १२ अक्टूबर को लांच हो रही है जिसके माध्यम से वो कम आय वाले छात्रों को शोध से आगे बढ़ने की प्रेरणा देंगे। वेबसाइट के ज़रिये उनसे जुड़कर आप अपने शोध से जुड़े प्रश्न पूछ सकते हैं। राय जैसे बिरले शिक्षाविद देश और समाज को उन्नति का पथ प्रदर्शित करते हैं और उभरती हुई प्रतिभाओं को विकसित करने में इनका विशेष योगदान रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *