Heavy Rainfall In UP: UP में आफत बनकर बरस रही बारिश, कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात, फसलें बर्बाद – imd rainfall update uttar pradesh mausam rains crops destryoed flood like situation many districts lbs

Heavy rainfall in UP: प्रदेश के कई जिलों में दिनों से बारिश जारी है. उफान हैं. बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. खड़ी फसलें भी खराब हो रही हैं. को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी बाढ़ प्रभावित कई का दौरा किया है और हालात का जायजा लिया है.

सैकड़ों गांवों में बाढ़, बेहाल

बाढ़ ने जिले के 110 गांवों को अपनी चपेट में ले लिया है. नदी खतरे के निशान से 128 सेमी ऊपर है. के किनारे के गावाों में हाहाकार मचा है. का फ्लो इतना तेज है कि उसने नवाबगंज थाने के ढेमुआघाट चौकी कटान की जद में आ चुकी है. का बहाव ऐसे ही तो यह पुलिस चौकी इतिहास बन जाएगी.

तहसील के रुपईडीह ब्लॉक के गांवरिया अनन्तपुर के गांवों में के पानी ने तबाही मचा दी है. का आरोप है कि इस मुसीबत की घड़ी में लोगों का जानने कोई नहीं आया. जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी राजेश श्रीवास्तव ने फोन पर बताया कि जिले के 3 तहसीलों गोंडा सदर तहसील के 79 तरबगंज के 28 व करनैलगंज के 3 गांव में बाढ़ की विभीषिका से जूझ हैं. करीब 1 लाख से अधिक आबादी बाढ़ की परेशानी है. व बचाव का काम युद्ध पर किया जा है. लोगों के आवागमन का सहारा है.

बाढ़ से हालात खराब

बाराबंकी में बाढ़ से हाल बेहाल है. का कहना है कि सालों बाद इतनी भयानक बाढ़ आई है. की तीन तहसील के सैकड़ो बाढ़ की चपेट है. पीड़ितों का जिंदगी जीना दुश्वार हो गया है.हर तरफ पानी भरा हुआ है. एक तरफ सड़कों पर सैलाब है तो खेतो में खड़ी फसल बर्बाद हो गई है. वही, परेशान ग्रामीण अपना नया आशियाना बंधे में लगे हैं.बाराबंकी मे सरयू नदी विकराल रूप धारण निशान से लगभग सवा मीटर ऊपर बह रही है.

फसल हुई जलमग्न

दिनों से हो रही बरसात में किसानों की धान, और लाह फसल पानी में डूब गईं हैं. फसल तो पकने को तैयार थी लेकिन अत्याधिक बरसात के खेत में बिछ गई है. किसानों का बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है. के जलेसर के कृषक भानु प्रताप सिंह का कहना है कि पहले तो सूखे के कारण अच्छी फसल नहीं पा रही थी. लेकिन जितनी भी फसल हुई वह अब अंत आकर अत्याधिक बरसात के कारण बर्बाद हो गई है कि के चलते बर्बादी की कगार पर आ गए हैं. के किसानों ने सरकर से अपील करते हुए कहा कि सरकार फसल के नुकसान का आकलन और हम को मुआवजा प्रदान करें.

बारिश ने मुरादाबाद में फसलों को किया बर्बाद

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में बारिश के चलते नदी और रामगंगा के जलस्तर ने अधिक गांवों में लोगो के को अपनी चपेट में ले है. कई गांवों में पानी सड़को पर आ चुका है. शैलेन्द्र कुमार सिंह ने बारिश के कारण बाढ़ प्रभावित गांवों-हीरापुर, चक लालपुर, रजौड़ा, लालपुर तितरी, भीतखेड़ा, जैतपुर विसाहत, ब्लॉक मुंडापांडे, तहसील मुरादाबाद के का निरीक्षण किया और मदद का आश्वासन दिया.

लोग कर रहे हैं त्राहिमाम

जनपद पीलीभीत में 5 दिन हुई लगातार बरसात से जिले में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं. में कई क्षेत्रों में पानी भरा हुआ है, जिससे लोगों को जीवन यापन में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा. ऐसे में जिले के समाजसेवियों के साथ-साथ पुलिस भी लोगों के बीच पहुंच रही है.

के 5 तहसीलों के कई गांव प्रभावित

पांच दिनों से रही बारिश से गोरखपुर जनपद भी बाढ़ की चपेट में चुका है गौतम गुप्ता की तो से बचाव के लिए प्रशासन पूरी तैयारी हो चुकी है. टीम के साथ लगातार प्रभावित गांवों को मॉनिटर कर रहे हैं. के कोलिया गांव में घुटने तक के पानी में निकलकर अपनी ज़रूरतों को पूरा कर रहे है. की डूब हैं. मवेशियों को लेकर लोग पर रहने को मजबूर हो गए हैं.

कोसी नदी उफान पर,फसलें हुई जलमग्न:

के पहाड़ों में हुई बरसात की कीमत अब मैदानी क्षेत्र के किसानों को भुगतनी रही है की कमाई उगाई गई पर पानी फिरता हुआ देखने को किसान मजबूर हैं. सरकार की तरफ से मदद की आस लगाए हैं. प्रशासन भी दावा कर रहा है कि किसानों के हुए नुकसान की भरपाई की जाएगी. अभी तक किसानों को सहायता तो दूर सांत्वना देने वाला भी कोई नहीं पहुंचा है. उत्तराखंड के रामनगर से छोड़ा हुआ पानी की शक्ल आया है रामपुर जिले के गांव के , डूब गए हैं और किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं.

:भारी बारिश से किसानों की हजारों बीघे फसल बर्बाद

यूपी के कौशांबी में कई दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश अब के लिए मुसीबत बन के किसानों की हजारों बीघे फसल बर्बाद हो रही है. वजह से सबसे ज्यादा धान की फसलों को हो रहा है. के चलते किसानों के धान की फसलों मे पानी भर गया है और तेज हवा के खेत में खड़ी फसलें गिर गईं हैं. किसानों का कहना है कि यदि बारिश नहीं तो बर्बादी का सिलसिला और भी बढ़ जाएगा से बर्बाद लिए से मुआवजे की मांग कर रहे हैं. वाह चाहकर भी कुदरत के कहर से फसलों को बचाने का उपाय भी नहीं कर पा रहे हैं. कौशांबी के कृषि भान सिंह गौतम बताया कि जिले में अभी तक महज 15 से 20 फ़ीसदी धान हुई है अगेती फसल है.यदि बारिश नहीं थमी तो फसल और भी ज्यादा है.

मे लगातार हुई बारिश से बाढ़ जैसे हालात,कई नदियां उफान पर

उतर प्रदेश के महराजगंज जिले में विगत दिनों हुई मुशलाधार बारिश से जिले में बाढ़ जैसे हालात हैं.चंदन,गंडक,नारायणी जैसी नदियां उफान पर हैं जलस्तर बढ़ है. बाढ़ को लेकर जिला प्रसाशन हाई अलर्ट पर है हुई में किसानों फसलें डूब गई हैं.एक तो मॉनसून देर से आने की वजह फसल की है.किसानों का मानना ​​कि मुनाफा दूर लागत निकलना भी मुश्किल हो गया है.

( से अंचल श्रीवास्तव,बाराबंकी से रेहान मुस्तफा, एटा से देवेश पाल सिंह, मुरादाबाद से जगत गौतम, से सौरभ पांडेय, गोरखपुर से रवि गुप्ता, रामपुर से आमिर खान, कौशांबी से अखिलेश और महाराजगंज से अमितेश के इनपुट के साथ )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *