Water Filled In The Stove, People Went To Bed Hungry, Dm Said, Zomato Service Is Not Running – Ambedkar Nagar News: चूल्हे में भर गया पानी, भूखे सो गए लोग, डीएम बोले, नहीं चला रहे जोमैटो सर्विस


से बेकाबू बेकाबू
– : amar ujala

सुनें

नदी की बाढ़ ने लोगों के सामने मुश्किल हालात उत्पन्न कर दिए हैं। रसोई गैस सिलिंडर खत्म होने के बीच मिट्टी के चूल्हे तक पानी पहुंच जाने से खाना नहीं बन पाया तो कहीं पूरी रात बिना खाए ही गुजारनी पड़ी। कहीं लोग रात इस आशंका में डरकर बिता रहे हैं कि पानी चारपाई के ऊपर तक न पहुंच जाए। हालात इतने ज्यादा बेकाबू हैं कि पशुओं तक को सुरक्षित स्थान पर ले जाना पड़ा है।

टांडा पहुंचे डीएम से कुछ ग्रामीणों ने कहा कि पका हुआ भोजन गांव के अंदर नहीं पहुंचाया जा रहा है। ने इस पर उनसे कहा कि बाढ़ चौकी की स्थापना समय रहते कर दी गई है। में राशन देने के साथ ही चौकी पर पका भोजन व अन्य सुविधाएं दी जा रही हैं। ने इससे पहले कहा कि हम लोग कोई जोमैटो सर्विस नहीं चला रहे हैं कि गांव के अंदर तक पका भोजन उपलब्ध हो सके। जो भी ग्रामीण बाढ़ चौकी तक लाया जा रहा या स्वयं आ रहा है, उसे भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। क्षेत्रों का गुरुवार को डीएम व अन्य अधिकारियों ने जायजा लिया। डीएम सैमुअल पॉल एन ने टांडा के महरीपुर, बाढ़ चौकी अवसानपुर, अकबरपुर के मिर्जापुर, पंडाटोला व अकबरपुर नगर का जायजा लिया। में नाव पर सवार होकर डीएम ग्रामीणों के बीच पहुंचे और बाढ़ प्रभावित परिवारों से मुलाकात की। बाढ़ चौकियों पर सभी जरूरी इंतजाम हैं।

के घसियारी टोला की सुंदरी बताती हैं कि घर में बाढ़ का पानी घुसने से बुधवार रात खाना नहीं बन पाया। खत्म हो चुका था जबकि चूल्हे में पानी भर गया। की मीना ने बताया कि घर में दो फिट से ऊपर पानी पहुंच गया। पानी में भीग गया। को भूखे ही सोना पड़ा है। निशा ने बताया कि पूरे घर में पानी ही पानी है। भी तो कैसे बने। भी है। कहते हैं कि इंसान के साथ मवेशी भी परेशान हैं। भूसा चारा सब भीग गया। बचाने के लिए मवेशियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। संघ अध्यक्ष अजय प्रताप श्रीवास्तव लोगों की कुशलता लेते मिले। तमाम घरों में लोग भूखे सो गए थे। हम सब भोजन का प्रबंध कर रहे हैं।

तहसील के हंसू का पूरा निवासी रामधनी ने कहा कि बाढ़ के हालात ने डरा रखा है। पड़ है। है कि कहीं रात में सो गए तो पानी चारपाई के ऊपर तक न पहुंच जाए। कुर्मी का पूरा निवासी बहादुर ने कहा कि खाना बनाने के लिए जो भी ईंधन रखा था वह सब भीग गया। अभाव में गैस सिलिंडर नहीं भरा पाए थे। मिलना मुश्किल हो गया है।

विस्तार

नदी की बाढ़ ने लोगों के सामने मुश्किल हालात उत्पन्न कर दिए हैं। रसोई गैस सिलिंडर खत्म होने के बीच मिट्टी के चूल्हे तक पानी पहुंच जाने से खाना नहीं बन पाया तो कहीं पूरी रात बिना खाए ही गुजारनी पड़ी। कहीं लोग रात इस आशंका में डरकर बिता रहे हैं कि पानी चारपाई के ऊपर तक न पहुंच जाए। हालात इतने ज्यादा बेकाबू हैं कि पशुओं तक को सुरक्षित स्थान पर ले जाना पड़ा है।

टांडा पहुंचे डीएम से कुछ ग्रामीणों ने कहा कि पका हुआ भोजन गांव के अंदर नहीं पहुंचाया जा रहा है। ने इस पर उनसे कहा कि बाढ़ चौकी की स्थापना समय रहते कर दी गई है। में राशन देने के साथ ही चौकी पर पका भोजन व अन्य सुविधाएं दी जा रही हैं। ने इससे पहले कहा कि हम लोग कोई जोमैटो सर्विस नहीं चला रहे हैं कि गांव के अंदर तक पका भोजन उपलब्ध हो सके। जो भी ग्रामीण बाढ़ चौकी तक लाया जा रहा या स्वयं आ रहा है, उसे भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। क्षेत्रों का गुरुवार को डीएम व अन्य अधिकारियों ने जायजा लिया। डीएम सैमुअल पॉल एन ने टांडा के महरीपुर, बाढ़ चौकी अवसानपुर, अकबरपुर के मिर्जापुर, पंडाटोला व अकबरपुर नगर का जायजा लिया। में नाव पर सवार होकर डीएम ग्रामीणों के बीच पहुंचे और बाढ़ प्रभावित परिवारों से मुलाकात की। बाढ़ चौकियों पर सभी जरूरी इंतजाम हैं।

के घसियारी टोला की सुंदरी बताती हैं कि घर में बाढ़ का पानी घुसने से बुधवार रात खाना नहीं बन पाया। खत्म हो चुका था जबकि चूल्हे में पानी भर गया। की मीना ने बताया कि घर में दो फिट से ऊपर पानी पहुंच गया। पानी में भीग गया। को भूखे ही सोना पड़ा है। निशा ने बताया कि पूरे घर में पानी ही पानी है। भी तो कैसे बने। भी है। कहते हैं कि इंसान के साथ मवेशी भी परेशान हैं। भूसा चारा सब भीग गया। बचाने के लिए मवेशियों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। संघ अध्यक्ष अजय प्रताप श्रीवास्तव लोगों की कुशलता लेते मिले। तमाम घरों में लोग भूखे सो गए थे। हम सब भोजन का प्रबंध कर रहे हैं।

तहसील के हंसू का पूरा निवासी रामधनी ने कहा कि बाढ़ के हालात ने डरा रखा है। पड़ है। है कि कहीं रात में सो गए तो पानी चारपाई के ऊपर तक न पहुंच जाए। कुर्मी का पूरा निवासी बहादुर ने कहा कि खाना बनाने के लिए जो भी ईंधन रखा था वह सब भीग गया। अभाव में गैस सिलिंडर नहीं भरा पाए थे। मिलना मुश्किल हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *